Principal of Conservation| |Physics Mcq |ऊर्जा सरंक्षरण का सिंद्धांत|


ऊर्जा सरंक्षरण का सिंद्धांत -(Principal of Conservation Of Energy)-

ऊर्जा को  न तो उत्पन्न किया जा सकता है और न ही नष्ट किया जा सकता है अपितु एक प्रकार की ऊर्जा मे परिवर्तित किया जा सकता है 

इस ब्रह्माण्ड की कुल ऊर्जा नियत है 

द्व्यमान ऊर्जा तुल्यता -(Mass Energy Equivalence)-

सन 1905 मे आइंस्टीन ने द्व्य मान तथा ऊर्जा के मध्य एक संबंध स्थापित किया  

E=mc^2 मे द्व्यमान संरक्षरण तथा ऊर्जा संरक्षण का एकीकरण हो जाता है 

ऊष्मा (Heat)- 

ऊष्मा ऊर्जा का वह रूप है जिससे हमें वस्तु की गर्माहट का अहसास होती है 

यह वस्तु के पदार्थ के अणुओ कीं गतिज ऊर्जा के कारण होती है 

इसका मात्रक कैलोरी, किलोकैलोरी अथवा जुल है 

कैलोरी (Calorie)-1ग्राम जल का ताप 1डिग्री सेल्सियस (10° से 11°c ) बढ़ाने के लिए आवश्यक ऊष्मा की मात्रा की को 1 किलो कैलोरी कहते है 

किलोकैलोरी -यह ऊष्मा कीं वह मात्रा है जो एक किग्रा जल का ताप 1°C बढ़ाने के लिए आवश्यक होती है 

ताप -(Temperature)-

किसी वस्तु की गर्माहट को उस वस्तु का ताप कहते है 

जब दो वस्तुए संपर्क मे स्थित होती है तो ऊष्मा का प्रवाह सदैव ऊंची ताप वाली वस्तु से निम्न ताप वाली वस्तु मे होता है 

थर्मामीटर -(Thermometer)

वस्तु के ताप को मापने के लिए जो यन्त्र प्रयोग किया जाता है उसे थर्मा मीटर कहते है 

सेल्सियस पैमाना -(Fahrenheit Scale)-

इससे जल के हिमांक को 0°c तथा जल के क्वथनांक को 100°C माना जाता है इस पैमाने का अविष्कार सन 1710 मे एo सेल्सियस ने किया था 

फारेनहाइट पैमाना -(Fahrenheit scale )-

इसमे जल के हिमांक को 32°फिर तथा क्वथनांक को 212°F माना गया इसका अविष्कार फारेनहाइट नामक वैज्ञानिक ने सन 1717 मे  किया था 

रयूमर पैमाना -(Reumer Scale)-

इससे जल के हिमांक को 0° R तथा क्वथनांक को 80°R माना गया है इसका अविष्कार रयूमर नामक वैज्ञानिक ने सन 1730 मे किया था 

निम्न समीकरण द्वारा एक पैमाने द्वारा मापे गयें ताप मे परिवर्तित कर सकते है -c\5=F-32/9=R/4

विशिष्ट ऊष्मा -(Specific Heat )-

किसी पदार्थ के एकांक द्व्यमान का ताप 1°c बढ़ाने के लिए आवश्यक ऊष्मा की मात्रा को उस पदार्थ कीं विशिष्ट ऊष्मा कहते है इसे प्राय C के द्वारा व्यक्त किया जाता है 

विशिष्ट ऊष्मा का मात्रक कैलोरी /ग्राम °C या किलो कैलोरी /किग्रा /°C अथवा जुल /किग्रा /°C होता है 

सोने (Gold ) की विशिष्ट ऊष्मा =130 जुल /किग्रा /°C 

पानी की विशिष्ट ऊष्मा =4180 जुल /किग्रा /°C 

प्रकाश (Light)-

प्रकाश एक प्रकार की ऊर्जा है जो किसी वस्तु पर पड़ती है तो वह वस्तु हमें दिखाई देती है 

प्रकाश का परावर्तन (Reflection of Light )-जब प्रकाश किसी चिकने धरातल पर पड़ता है तो वह उसीं माध्यम मे वापस लौट आता है इस घटना को प्रकाश का परावर्तन कहते है 

परावर्तन के नियम (Law of Light )

आपतन कोण (<¡) का मान परावर्तन कोण (<r) के बराबर होता है 

आपतित किरण परावर्तित किरण तथा आपतन बिंदु पर अभिलम्ब तीनो एक ही तल मे होते है 

प्रकाश का अपवर्तन (Refraction Of  light )-जब प्रकाश किरण किसी पारदर्शी माध्यम के पृथक्कारी तल पर पड़ती है तो वह अपने मार्ग से विचलित हो जाती है प्रकाश किरण के एक माध्यम से दूसरे माध्यम मे जाने पर अपने मार्ग से विचलित होने की घटना को प्रकाश का अपवर्तन कहते है 

जब प्रकाश किरण विरल माध्यम से सघन माध्यम मे जाती है तो प्रकाश की किरण अभिलम्ब की ओर झुक जाती है 

जब प्रकाश किरण सघन माध्यम से विरल माध्यम मे जाती है तो वह अभिलम्ब से दूर हट जाती है 

गोलीय दर्पण -(Spherical Mirros)-

गोलीय दर्पण कांच के खोखले गोले का भाग होता है जिसकी एक सतह पर पॉलिस किया जाता है गोलीय दर्पण दो प्रकार के होते है 

1-अवतल दर्पण (Concave Mirror)

2-उत्तल दर्पण (Convex Mirror)

अवतल दर्पण (Concave Mirror)-

इनका उपयोग कारो, बसों मे परावर्तन के रूप मे किया जाता है 

इनका उपयोग शेविंग (दाढ़ी बनाने ) के दर्पणों के बनाने मे किया जाता है 

डॉक्टर द्वारा आँख कान व नाक आदि का परीक्षण करने मे तीव्र प्रकाश फेकने मे किया जाता है 

उत्तल दर्पण -(Convex Mirror)-

कार व बस आदि मे पीछे का दृश्य देखने के लिए इनका उपयोग किया जाता है 

इनका उपयोग सीधा प्रतिबिम्ब देखने मे किया जाता है 

स्मरणीय तथ्य —

समतल दर्पण द्वारा प्रतिबिम्ब दर्पण से उतनी ही दूरी पर होता है जीतनी दूरी पर वस्तु रखी जाती है 

समतल दर्पण द्वारा बने प्रतिबिम्ब का आकर वस्तु के आकर के बराबर होता है 

समतल दर्पण द्वारा बना प्रतिबिम्ब देखने के लिए समतल दर्पण की लम्बाई वस्तु की लम्बाई की आधी होती है 

वस्तु तथा प्रतिबिम्ब को मिलाने वाली रेखा, समतल दर्पण पर लम्ब होती है 

जब एक दर्पण को किसी निश्चित कोण से घुमाया जाता है तो परावर्तित किरण दोगुने कोण से घूम जाती है 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *